Tuesday, August 16, 2022
Homeक्राइमड्रैगन की चाल! बॉर्डर पर तनाव के बीच चीनी Hackers ने अगस्त...

ड्रैगन की चाल! बॉर्डर पर तनाव के बीच चीनी Hackers ने अगस्त से मार्च के बीच लद्दाख में पावर ग्रीड को बनाया निशाना: रिपोर्ट

लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर जारी गतिरोध के बीच चीनी हैकर्स ने पिछले आठ महीनों (अगस्त-मार्च) में लद्दाख के पास भारतीय बिजली वितरण केंद्रों को निशाना बनाया है। निजी खुफिया फर्म रिकॉर्डेड फ्यूचर की एक रिपोर्ट में बुधवार को यह खुलासा हुआ।

ग्रुप ने कहा, ”हाल के महीनों में हमने इन संबंधित राज्यों के भीतर ग्रिड कंट्रोल एंड इलेक्ट्रीसिटी डिस्पैच के लिए वास्तविक समय संचालन करने के लिए जिम्मेदार कम से कम सात इंडियन स्टेट लोड डिस्पैच सेंटर्स (SLDCs) को निशान बनाकर नेटवर्क में घुसपैठ की संभावना देखी। विशेष रूप से, यह टारगेट भौगोलिक रूप से केंद्रित है, उत्तर भारत में स्थित एसएलडीसी के साथ लद्दाख में विवादित भारत-चीन सीमा के निकट स्थित है।”

और पढ़े: Cyber Crime की रिपोर्टिंग के लिए गृह मंत्रालय ने जारी किया नया हेल्पलाइन नंबर, अब 155260 की जगह 1930 नंबर पर करें कॉल

सूत्रों ने बताया कि हमले पिछले साल अगस्त से मार्च के बीच हुए थे। उन्होंने कहा कि जांच में पाया गया कि इंडियन लोड डिस्पैच सेंटर्स से दुनियाभर में फैले चीनी सरकार द्वारा प्रायोजित कमांड एंड कंट्रोल सर्वर को डेटा भेजा जा रहा है।

रिकॉर्डेड फ्यूचर ने कहा, “पावर ग्रिड को निशाना बनाने के अलावा, नेशनल इमरजेंसी रिस्पॉन्स सिस्टम और एक मल्टी नेशनल लॉजिस्टिक कंपनी की इंडियन सबसिड्री कंपनी को भी निशाना बनाया गया।”

समूह ने कहा कि उन्होंने रिपोर्ट प्रकाशित करने से पहले इसके बारे में सरकार को सतर्क किया। सरकार द्वारा प्रायोजित हैकर्स से खतरों की पहचान करने में विशेषज्ञता वाली दुनिया की सबसे बड़ी खुफिया फर्म के अनुसार चीनी हमलावर महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचा प्रणालियों के बारे में जानकारी इकट्ठा करने की कोशिश कर रहे थे।

समूह ने कहा, ”पिछले 18 महीनों में भारत में स्टेट और रीजनल लोड डिस्पैच सेंटर्स के निरंतर निशाना बनाने के मद्देनजर पहले RedEcho से और अब TAG-38 गतिविधि भारत में सक्रिय चीनी हैकर्स के लिए एक दीर्घकालिक रणनीतिक प्राथमिकता हो सकती है। चीनी सरकार से जुड़े समूहों द्वारा इंडियन पावर ग्रिड असेट को लंबे समय तक लक्षित करने से सीमित आर्थिक जासूसी या पारंपरिक खुफिया जानकारी एकत्र करने के अवसर मिलते हैं। हमारा मानना ​​​​है कि महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचा प्रणालियों और भविष्य की गतिविधियों के बारे में जानकारी हासिल करना लक्ष्य है।”

और पढ़े: बिजनेस पार्टनर बनाने का झांसा देकर IT Head से 88 Lakh रुपये ठगे, नोएडा पुलिस ने नाइजीरियन को किया गिरफ्तार, हुए चौकाने वाले खुलासे

समूह ने कहा कि पिछले साल फरवरी में, उसने 10 अलग-अलग भारतीय बिजली क्षेत्र के संगठनों में सेंधमारी की सूचना दी थी। इसमें पांच लोड डिस्पैच सेंटर्स (RLDC)समेत दो पोर्ट्स, एक लार्ज जनरेशन ऑपरेटर और अन्य ऑपरेशनल असेट्स में से चार शामिल हैं।

भारत और चीन के बीच लंबे समय से 3,500 किलोमीटर लंबी सीमा पर विवाद चल रहा है और 1962 में अरुणाचल प्रदेश में दोनों देशों के बीच मेंयुद्ध हुआ था। 2020 में लद्दाख के गलवान क्षेत्र दोनों देशों की सेनाओं के बीच खूनी झड़प के बाद तनाव बढ़ गया।तब से दोनों पक्षों के बीच तनाव कम करने के लिए कई दौर की वार्ता हुई है। पिछले महीने, भारत ने कहा कि चीन के साथ संबंध तब तक सामान्य नहीं हो सकते जब तक कि उनके सैनिक पीछे नहीं हट जाते।

Follow The420.in on

 Telegram | Facebook | Twitter | LinkedIn | Instagram | YouTube

Subscribe to our newsletter

To be updated with all the latest news, offers and special announcements.

Most Popular

Recent Comments