Sunday, October 17, 2021
Homeक्राइमसावधान: त्योहारों के समय नकली ई-कॉमर्स वेबसाइट की भरमार, लाखों लोग...

सावधान: त्योहारों के समय नकली ई-कॉमर्स वेबसाइट की भरमार, लाखों लोग हो रहे है ठगी का शिकार

नई दिल्ली: देश में त्योहारों का सीजन शुरू हो चुका है। वहीं ई-कॉमर्स के लिए भी यह सीजन त्योहार से कम नहीं होता है। कपंनियां इस सीजन में ग्राहकों को कई ऑफर देते है। जिससे उनकी ब्रिकी ज्यादा हो सके है. इसके साथ ही देश में नकली ई-कॉमर्स वेबसाइट की भी भरमार हो चुकी है। कई कंपनियां लक्जरी स्मार्ट घड़िया, स्मार्टफोन की एक्सेसरीज़ सस्ते दामों का लालच देकर लोगों के साथ ठगी कर रही है। साइबर की टीम भी इन कंपनियों पर लगाम लगाने में विफल रही है।


जिसकी वजह देश के लाखों लोग इसकी चपेट में आ रहे है। यह कंपनियां सोशल साइड जैसे फेसबुक, इंस्टाग्राम पर अपना पेज बनाकार लोगों को लक्जरी स्मार्ट घड़िया, स्मार्टफोन की एक्सेसरीज़ सस्ते दामों का लालच देते है। फिर उनसे पहले पेंमेट करवा लेते है। जिसके बाद उन्हें समान नहीं दिया जाता है। वह उस को बंद कर देते है या फिर वेबसाइट से कोई प्रतिक्रिया नही देंते है.


इसको लेकर एक उपयोगकर्ता यूनिल गुप्ता ने कहा कि मैंने एक एसएसडी (सॉलिड स्टेट ड्राइव) का आदेश दिया और ऑनलाइन भुगतान किया. यह वेबसाइट धोखाधड़ी है। लेकिन दुर्भाग्य से फेसबुक द्वारा समर्थित है और सभी विज्ञापन मेरे फेसबुक अकाउंट पर प्रदर्शित होते हैं। भुगतान करने के बाद, वेबसाइट से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।


हरियाणा के गुड़गांव शहर के आयुष ने बताया की वह हाल ही इस ठगी का शिकार हुआ है। उन्होंने 1,668 रुपये में स्मार्टफोन के लिए एक मिनी-पॉकेट चार्जर का ऑर्डर दिया था। जिसके बाद उसका समान कभी नहीं आया है। उसने इस घटना की गुरुग्राम पुलिस साइबर क्राइम सेल में ई-कॉमर्स वेबसाइट के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई दी है।

आइए जानते है यह लोगों को बनाते है अपना शिकार

सबसे पहले यह लोग सोशल मीडिया फेसबुक पर एक पेज बनाते है। जिसके बाद सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपने पेज के माध्यम से बिक्री शुरू करता है, उपयोगकर्ताओं को अपने पोर्टल पर ले जाता है। एक बार जब वह अपने आदेशों के लिए भुगतान प्राप्त कर लेते हैं, तो वे उत्पादों को भेजने में देरी करते हैं और जब तक फेसबुक यह समझने के लिए अपनी प्रतिक्रिया प्रक्रिया पूरी करता है कि विज्ञापनदाता वैध है या घोटाला, जालसाज तुरंत पैसा कमाते हैं और फेसबुक द्वारा साइबर अपराधी घोषित करने के बाद अपना संचालन बंद कर देते हैं।

Follow The420.in on

 Telegram | Facebook | Twitter | LinkedIn | Instagram | YouTube

Subscribe to our newsletter

To be updated with all the latest news, offers and special announcements.

Most Popular

Recent Comments