Sunday, January 29, 2023
Homeक्राइमChinese App से लोन देकर दो हजार से अधिक लोगों से वूसली...

Chinese App से लोन देकर दो हजार से अधिक लोगों से वूसली करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, China से ऑपरेट हो रहा था फर्जी Call Centre

Chinese App से लोन देकर दो हजार से अधिक लोगों के साथ ठगी करने वाले एक गिरोह का  Noida Cyber Crime Cell ने खुलासा किया है। पुलिस ने इस गिरोह के Mastermind समेत 12 जालसाजों को गिरफ्तार किया है। ये जालसाज नोएडा के सेक्टर-63 में Call Centre खोलकर ठगी व Blackmail कर रहे थे।

प्राथमिक जांच में पता चला है कि इन आरोपियों ने एक करोड़ रुपये से अधिक की ठगी की है। इनके पास से पुलिस ने 36 Desktop, 15 Laptop, 8 मोबाइल, डेढ़ लाख रुपये, 135 Sim Card बरामद किया है। इस कॉल सेंटर के China से ऑपरेट होने की बात भी सामने आ रही है।

नोएडा में चल रहा था Fake Call Centre

नोएडा कमिश्नरेट पुलिस को Chinese Loan App के आतंक की शिकायतें मिल रही थी। इसके बाद साइबर क्राइम पुलिस की टीम ने  सेक्टर-63 के ई ब्लॉक से 12 साइबर जालसाजों को गिरफ्तार कर लिया। ये आरोपी सेक्टर-63 के ई-2 में एक दफ्तर खोलकर Cyber Fraud कर रहे थे।

DCP Cyber Crime अभिषेक वर्मा का कहना है कि ये आरोपी Chinese Loan App से लोन लेने वाले लोगों के साथ ब्लैकमेल कर वसूली करते थे। इनका एक Setup बना हुआ था। इसके माध्यम से ये आरोपी फर्जी लोन एप के माध्यम से लोगों को लोन देते थे और इस दौरान उनके मोबाइल का Access लेकर उनकी फोटो व अन्य पर्सनल जानकारी ले लेते थे। इसके बाद में दस से बीस गुना तक अधिक पैसों की मांग करते थे और नहीं देने पर उनका मॉफ्र्ड फोटो Viral कर देते थे।

गिरफ्तार जालसाजों की पहचान सेक्टर-137 पारस टियरा निवासी पुनीत तुली, सेक्टर-66 निवासी अफजल, भजनपुरा निवासी जितेन्द, सेक्टर-62 निवासी नीरज, मेरठ निवासी शिवम, मामूरा निवासी अजीम, आकाश, खोड़ा निवासी सुमित, विजयनगर निवासी अरुण, बहलोलपुर निवासी सिद्दार्थ ओझा, दिल्ली निवासी रजनीश और भारत के रूप में हुई है। ये आरोपी पिछले ढाई महीने से Noida में Call Centre चला रहे थे और अब तक दो हजार से अधिक लोगों के साथ ठगी करने की जानकारी जांच में सामने आई है। पुलिस की टीम इस गिरोह के Network के बारे में पता लगा रही है।

गिरफ्तार जालसाजों की पहचान सेक्टर-137 पारस टियरा निवासी पुनीत तुली, सेक्टर-66 निवासी अफजल, भजनपुरा निवासी जितेन्द, सेक्टर-62 निवासी नीरज, मेरठ निवासी शिवम, मामूरा निवासी अजीम, आकाश, खोड़ा निवासी सुमित, विजयनगर निवासी अरुण, बहलोलपुर निवासी सिद्दार्थ ओझा, दिल्ली निवासी रजनीश और भारत के रूप में हुई है।

ऐसे करते थे Chinese App से जालसाजी

गिरफ्तार आरोपियों ने ई-2, सेक्टर-63 में एक कॉल सेंटर खोला हुआ था। यहां पर ये आरोपी Chinese Loan App के माध्यम से लोन लेने वाले लोगों के मोबाइल का एक्सेस लेकर फोटो, डेटा व अन्य जानकारी ले लेते थे। इसके बाद WhatsApp Call करके लोन की किस्त का बताकर धीरे धीरे डेढ़ गुना तक राशि ले लेते थे। इसके बाद लोन लेने वालों के फोटो मॉफ्र्ड कर उसके पास भेजकर Viral करने की धमकी देते थे। फिर Blackmail करते करते दस से बीस गुना तक राशि वसूल लेते थे।  जो लोग पैसे नहीं देते थे उनके अश्लील फोटो को उनके परिवार के लोगों व रिश्तेदारों को भेज देते थे।

ALSO READCyber Crime की रिपोर्टिंग के लिए गृह मंत्रालय ने जारी किया नया हेल्पलाइन नंबर, अब 155260 की जगह 1930 नंबर पर करें कॉल

विदेशी Connection बिटकॉइन के इस्तेमाल की आशंका

Chinese App से लोन देकर आतंक मचाने वाले आरोपियों के विदेशी Connection की जांच की जा रही है। बताया जा रहा है कि इनका Network चीन से लेकर अन्य देशों तक जुड़ा हुआ है। वहीं इस मामले में यह भी  पता चला है कि ये आरोपी Bitcoin के माध्यम से भी लेने देन आपस में करते थे। पुलिस की टीम इसकी भी जांच कर रही है। पुलिस का कहना है कि पुनीत का Connection एक चीनी नागरिक डेव से हैं। वह विदेश में बैठकर पुनीत को URL उपलब्ध कराता था, जिसकी लॉगिन आइडी भी दी जाती थी। यह लॉगिन पर ही काम करते थे। यह कॉल सेंटर चीन से ही ऑपरेट किया जा रहा था।

डीयू से Bcom है मास्टमाइंड

इस गिरोह का सरगना सेक्टर-137 पारस टियारा निवासी पुनीत तुली कर रहा था। इसने Delhi University से Bcom किया है और पहले कई कई आईटी व Finance कंपनियों में नौकरी कर चुका है। पुनीत का संपर्क ही चीनी साइबर जालसाजों से हैं। पुनीत के इस Call Centre में कुल 46 लोग काम करते थे। इनमें एक दर्जन से अधिक लड़कियां भी थी। इनमें 12 मुख्य आरोपियों को दबोचा गया है। पुनीत कॉल सेंटर के कर्मचारियों को दस से 15 हजार रुपये Salary देता था। इसकेअलावा वूसली के हिसाब से बोनस भी दिया जाता था।

ED से लेकर Play Store से पुलिस ने मांगी मदद

DCP Cyber Crime अभिषेक वर्मा का कहना है कि इस मामले में विदेशी Connection की बात सामने आ रही है और इसके लिए हमलोग ED से लेकर अन्य एजेंसियों को पत्र भेजेंगे। इसके साथ ही प्ले स्टोर से भी पत्राचार कर फर्जी चाइनीज लोन एप को बंद करने के लिए कहा जाएगा। उन्होंने बताया कि ये आरोपी लोन के लिए Play Store से फ्री कैश, ईजी लोन, गोल्डेन रूपी, रूपी मोर आदि एप डाउनलोड करवाते थे। इस कारण इस तरह के एप के बारे में प्ले स्टोर को जानकारी भेजी जाएगी।

ALSO READ: करेंसी ट्रेडिंग के नाम पर Demate Account खोल ऐसे ठगी करता था ये गैंग, 100 से भी ज्यादा लोगों को लगाया करोड़ों का चूना

बरतें ये सावधानी

– अवैध Loan App से दूर रहें- लोन एप की ठगी से बचने का सबसे बेहतर तरीका है कि Fake Loan App से दूर रहें। लोन लेने से पहले  Reserve Bank Of India से रजिस्टर्ड लोन एप के बारे में पता कर लें।

– NBFC कंपनी से लोन लें तो बेहतर- अगर आपको तुरंत लोन की जरूरत है तो एनबीएफसी (नॉन बैंकिंग फाइनेंसियल कंपनीज) कंपनी से लोन ले सकते हैं। NBFC Company  सभी बैंको की तरह ही काम करती है और लोन प्रदान करती है।

– फंस गए तो ये करें-  अगर Loan App वाले परेशान कर रहे हों तो सबसे पहले पुलिस को सूचना दें। इसके बाद सोशल साइट पर आप लोन एप द्वारा जबर्दस्ती परेशान करने की जानकारी दे दें। ताकि लोन एप के नाम पर बदमाश आपके बारे में Social Media पर कुछ गलत नहीं लिख सके।

Follow The420.in on

 Telegram | Facebook | Twitter | LinkedIn | Instagram | YouTube

Subscribe to our newsletter

To be updated with all the latest news, offers and special announcements.

Most Popular

Recent Comments