सोशल मीडिया की मंडी! जानिए किस रेट पर बिक रहे हैं लाइक्स, फॉलोअर्स और वेरिफाइड अकाउंट्स

सोच पर हावी सोशल मीडिया। वो भी असली नहीं बल्कि नकली सोशल मीडिया। जिसे पैसों से खरीदा जाता है और फिर उन्हें ट्रेंड कराकर या फिर बहुत बड़ा दिखाकर हमारे दिलो-दिमाग को प्रभावित किया जाता है। जानिए, सोशल मीडिया पर लाइक्स, फॉलोअर्स और ब्लू टिक का बिजनेस मार्केट कैसे बढ़ रहा है। क्या सेलिब्रिटीज, क्या नेता और क्या इंफ्लूएंसर्स ...सभी कर रहे हैं खरीद-फरोख्त...

social fraud

आजकल किसी सेलिब्रिटी की लोकप्रियता का अंदाजा आप कैसे लगाते हैं? कैसे जानते हैं कि इस सेलिब्रिटी के चाहने वाले दुनिया भर में सबसे ज्यादा हैं? जाहिर है हम उनके सोशल मीडिया अकाउंट को चेक करते हैं। ये देखते हैं कि इस सेलिब्रिटी के फेसबुक फॉलोअर्स इतने लाख हैं। ट्विटर, इंस्टाग्राम, यू-ट्यूब, लिंक्डइन या दूसरे सोशल मीडिया पर उनके फॉलोअर्स की संख्या से उनकी लोकप्रियता आंकते हैं।

कई बार किसी नेता या सेलिब्रिटी की असलियत हम भले ही ना जानते हों लेकिन उनके फॉलोअर्स की संख्या देखकर उनकी बातों से सहमत हो जाते हैं। यानी हमारी सोच पर उनके सोशल मीडिया के भारी-भरकम फॉलोअर्स भारी पड़ जाते हैं। लेकिन कभी सोचा है कि जिन फॉलोअर्स की संख्या को देखकर हम प्रभावित होते हैं उनमें से ज्यादातर नकली भी हो सकते हैं। यानी काफी संख्या में फॉलोअर्स इंसान ना होकर रोबोट हो सकते हैं। चौंकिए मत, ये सच है। आजकल ऐसे नकली फॉलोअर्स (Fake Followers), नकली लाइक्स (Fake Likes), नकली व्यूज (Fake Views) का मार्केट रफ्तार पकड़ चुका है।

इसलिए The420.in की इन्वेस्टिगेटिव टीम ऐसे फर्जीवाड़ा करने वालों का लगातार खुलासा करेगी। इस पर हम लगातार नजर बनाए हुए हैं। आगे हम बताएंगे कि नकली लाइक्स और फॉलोअर्स बढ़ाना कैसे साइबर क्राइम की श्रेणी में आता है। आजकल सोशल मीडिया की मंडी कैसे सज रही है, इन्हें एक्सपोज करने में हमें आपका भी सहयोग चाहिए। अगर आप कोई जानकारी शेयर करना चाहते हैं तो हमें कॉमेंट कर दे सकते हैं या फिर हमें Whatsapp 9580509795 कर सकते हैं। ईमेल भी भेज सकते हैं [email protected] पर

ऐसे समझिए : नकली फॉलोअर्स का मार्केट कैसे चल रहा है

इस मार्केट को आसानी से समझने के लिए आप गूगल पर सर्च करिए.. how to buy followers on twitter in india या फिर how to buy facebook followers in india…ऐसे ही You Tube सबस्क्राइबर या Views के लिए भी सर्च कर सकते हैं। इसे सर्च करते ही आप देखेंगे कि करोड़ों की संख्या में लोग ऐसी जानकारी जानना चाह रहे हैं। इसके बाद आपके एक या दो नहीं बल्कि दर्जनों की संख्या में सोशल मीडिया मार्केटिंग कंपनियां मिल जाएंगी। जो एक-एक फॉलोअर, लाइक्स, सबस्क्राइबर और व्यूज का रेट बताएंगी। अभी एक वेबसाइट का ये पेज देखिए।

500 फेसबकु पेज लाइक की कीमत 625 रुपये है। इसी तरह 250 ट्विटर फॉलोवर की कीमत 350 रुपये है। आप 1 हजार से लेकर 10 हजार और लाखों फॉलोअर्स की कीमत देख सकते हैं। इन वेबसाइट्स और गूगल पर ऐसे कीवर्ड्स को सर्च करने वालों की संख्या देखकर आप अंदाजा लगा सकते हैं इस तरह का बाजार आखिर कितना बढ़ चुका है।

ऐसे हुआ था खुलासा : बड़े-बड़े फिल्मी स्टार्स और सेलिब्रिटीज तक खरीद रहे हैं फॉलोअर्स

बॉलिवुड सिंगर भूमि त्रिवेदी मामले से खुली थी पोल

भूमि त्रिवेदी

जुलाई 2020 में मुंबई पुलिस ने एक बड़ा खुलासा किया था। ये बताया था कि कैसे देश के बड़े-बड़े सितारे खरीदे हुए नकली फॉलोअर्स से खुद की पहचान बढ़ा रहे हैं। इस गड़बड़झाले का खुलासा कुछ ऐसे हुआ था। 11 जुलाई 2020 को बॉलीवुड की सिंगर भूमि त्रिवेदी ने मुंबई पुलिस से ये शिकायत की थी कि उनके नाम और तस्वीरों का इस्तेमाल करके इंस्टाग्राम पर एक नकली अकाउंट बनाया गया है। इस अकाउंट पर ये दावा किया गया था कि यही भूमि त्रिवेदी का ऑफिशियल अकाउंट है।

नकली अकाउंट बनाने वाले आरोपी ने किए थे बड़े खुलासे

पुलिस की जांच में पता चला कि भूमि त्रिवेदी के नाम पर नकली अकाउंट बनाकर एक व्यक्ति ना सिर्फ फॉलोअर्स की संख्या बढ़ा रहा था बल्कि इस सिंगर के नाम पर कई तरह की बिजनेस डील भी कर रहा था। चौंक गए ना आप। लेकिन ये सच है। पुलिस ने जब अभिषेक दवड़े नाम के आरोपी को गिरफ्तार किया तब पता चला कि ये फॉलोअर्स कार्ट (Followers Kart) नाम की एक कंपनी के लिए काम करता था। जांच में ये भी सामने आया कि ये कंपनी 80 अलग-अलग कैटिगरी में 700 से ज्यादा सर्विसेज मुहैया कराती थी।

ये सर्विसेज यूट्यूब, इंस्टाग्राम, फेसबुक, ट्विटर, टेलीग्राम, लिंक्डइन, स्पोटिफाई और साउंड क्लाउड समेत कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स और ऑनलाइन गेम्स एप्लीकेशंस से जुड़ीं थीं। ये कंपनी इन प्लेटफॉर्म्स पर अपने ग्राहकों को नकली लाइक्स, कॉमेंट्स, व्यूज, रीट्वीट्स, सब्सक्राइबर्स और फॉलोअर्स उपलब्ध कराती थी। इसके बदले मोटी कमाई की जाती थी।

200 से ज्यादा सेलिब्रिटीज नकली लाइक्स-फॉलोअर्स के सहारे बने सितारे : रिपोर्ट

मुंबई पुलिस की जांच में पता चला था कि देश के 200 से ज्यादा सेलिब्रिटीज इस तरह के खरीदे हुए नकली लाइक्स या फॉलोअर्स के सहारे चमक रहे हैं। इनमें बॉलीवुड स्टार्स से लेकर, सिंगर, कोरियोग्राफर्स, मशहूर​ टिकटॉक स्टार, बॉ​डी बिल्डर्स और दूसरे सोशल मीडिया इंफ्लूएंसर्स भी शामिल हैं। यहां सोशल मीडिया इंफ्लूएंसर्स को आप ऐसे समझिए।

आपने कभी देखा होगा कि फेसबुक या ट्विटर पर किसी मुद्दे को लेकर एक शख्स के पोस्ट पर हजारों कॉमेंट या लाइक्स होते हैं। इसके जरिए वो किसी मामले को कुछ घंटे में टॉप ट्रेंड में ला देता है। कई बार ये किसी गलत दावे को भी सही ठहराने में बतौर इंफ्लूएंसर्स का काम करते हैं। लेकिन इनके बारे में शायद ही आप जानते होंगे।

प्रियंका चोपड़ा, दीपिका पादुकोण समेत बॉलिवुड के 10 नाम भी आए थे चर्चा में

प्रियंका चोपड़ा और दीपिका पादुकोण

उस दौरान मुंबई पुलिस ने अपनी जांच में द इंस्टीट्यूट ऑफ कंटेपररी म्यूजिक परफॉर्मेंस (ICMP)के हवाले से दावा किया था कि बॉलीवुड के 10 सेलिब्रिटीज में दो नाम प्रियंका चोपड़ा और दीपिका पादुकोण. का भी है जिनके सोशल मीडिया पर 48 प्रतिशत से ज्यादा फॉलोअर्स या तो नकली हैं या फिर इंटरनेट बोट्स (Bots)हैं। अब सोचिए कि अपने फॉलोअर्स बढ़ाने के पीछे क्या वजह होती है? क्या ये सिर्फ दिखावे के लिए होता है या फिर इसके पीछे कुछ बिजनेस डील भी होती है।

इस सवाल के जवाब में आपको ये जानना जरूरी है कि जिसका ICMP की रिपोर्ट में दावा भी है। इसी रिपोर्ट का दावा था कि दीपिका पादुकोण सोशल ​मीडिया पर एक पोस्ट करने के लिए 1 लाख 90 हजार डॉलर यानी करीब 1 करोड़ 42 लाख रुपये लिया करती थीं। वहीं, एक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा को एक पोस्ट के लिए 2 करोड़ रुपये से ज्यादा मिलते थे। यानी आप समझ सकते हैं पैसे खर्च करके फॉलोअर्स बढ़ाने का सिर्फ एक मकसद नहीं है। इसके पीछे कई मकसद छुपे हैं।

Read Also Exposed: How Online Marketeers Are Manipulating Likes, Comments, Followers For Money

रैपर बादशाह से भी पुलिस ने की थी पूछताछ

रैपर बादशाह

जुलाई 2020 में ही मुंबई क्राइम ब्रांच ने रैपर बादशाह से भी पूछताछ की थी। दरअसल, सेलिब्रिटीज के नकली फैंस और फॉलोअर्स को लेकर गूगल से एक बड़ी जानकारी मिली थी। बादशाह का सुपर हिट हुआ सॉन्ग पागल है… को लेकर यूट्यूब पर दावा किया गया था कि एक दिन में इस पर 75 मिलियन (750 लाख) व्यूज (Views) आए थे। लेकिन इस दावे को गूगल ने गलत करार दिया था। क्योंकि गूगल रिकॉर्ड में इतना ट्रैफिक नहीं था।

Twitter-Facebook Blue Tick यानी अकाउंट वेरिफाई कराने में भी रैकेट

आजकल ट्विटर या फेसबुक पर किसी अकाउंट को तब ज्यादा तरजीह देते हैं जब उसके आगे नीला टिक (Blue Tick) होता है। यानी अकाउंट वेरिफाइड हो। आप भी कई बार किसी ट्विवटर अकाउंट के आगे Blue Tick देखते होंगे तो उसके हैंडल से किए ट्वीट पर ज्यादा भरोसा कर लेते होंगे। लेकिन आपको हैरानी होगी कि इस ब्लू टिक के लिए भी मार्केटिंग की जा रही है और कीमत लगाई जा रही है।

आप इस तस्वीर को देखिए। फेसबुक वेरिफिकेशन के लिए 30 हजार रुपये की पेमेंट की गई है। इससे समझ सकते हैं कि ब्लू टिक कराने के लिए भी कैसे बिजनेस डील हो रही है।

पैसे देकर नकली फॉलोअर्स बढ़ाने के बिजनेस को समझिए

लेकिन आखिर में यही सवाल आता है कि मेरा भी फेसबुक या ट्विटर या जो चाहे वो सोशल मीडिया अकाउंट है। फिर वेरिफाई कराने या फिर फॉलोअर्स बढ़ाने के लिए हम या कोई दूसरा पैसे क्यों खर्च कर रहा है। या फिर नकली फॉलोअर्स क्यों बढ़ा रहा है। इसके पीछे की असलियत को समझिए। असल में कोई भी कंपनी अपने ब्रांड्स को उन सेलिब्रिटीज या फिर लाखों फॉलोअर्स वाले इंफ्लूएंसर्स से प्रमोट कराना चाहती हैं ताकि उनके पोस्ट करते ही वो जानकारी कुछ सेकेंड में लाखों लोगों तक पहुंच जाए। ऐसे में ये विज्ञापन या फिर कंटेंट करोड़ों लोगों तक पहुंचता है और इसके बदले सेलिब्रिटीज या इंफ्लूएंसर्स को मोटी फीस मिलती है। इस फीस के आगे फॉलोअर्स खरीदने का खर्च कुछ भी नहीं है।

इंडिया में प्रति व्यक्ति 11 से ज्यादा सोशल मीडिया अकाउंट, ये दुनिया में सबसे ज्यादा

हाल में आई Global Web Index की रिपोर्ट के अनुसार पूरी दुनिया में प्रति व्यक्ति सोशल मीडिया अकाउंट बनाने में इंडिया नंबर-1 है। दुनिया में एक शख्स के पास औसतन 8.8 सोशल मीडिया अकाउंट है। जबकि इंडिया में औसतन 11.5 सोशल मीडिया अकाउंट हैं। वहीं, इसके बाद अमेरिका में ये औसत 7.3 अकाउंट और UK में 7.0 अकाउंट है। 2014 की तुलना में 2020 में सोशल मीडिया अकाउंट बनाने में करीब 83.33 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है।

2020 में दुनिया में सबसे ज्यादा सोशल मीडिया यूजर्स इंडिया में बढ़े

एक रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2020 में दुनिया में सोशल मीडिया यूजर्स की संख्या 3.96 बिलियन (यानी 396 करोड़) है। 2019 की तुलना में ये 10.9 प्रतिशत बढ़ा है। इसमें सबसे ज्यादा 130 मिलियन (यानी 13 करोड़) यूजर्स सबसे ज्यादा इंडिया में बढ़ें हैं। इसके बाद चीन, इंडोनेशिया, ब्राजील, इरान और अमेरिका का नंबर है।

दुनिया में सबसे ज्यादा फेसबुक यूजर्स, फिर यू-ट्यूब और वॉट्सऐप का नंबर

अभी दुनिया में सबसे ज्यादा सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म फेसबुक यूज किया जा रहा है। दुनिया में फेसबुक यूजर्स की संख्या 270 करोड़ है। यानी भारत की आबादी करीब 130 करोड़ है तो दुनिया में समझ लीजिए भारत जैसे दो देश के सभी लोगों के पास फेसुबक अकाउंट है। फेसबुक के बाद यू-ट्यूब के 200 करोड़ यूजर्स हैं। देखिए पूरी लिस्ट।

सोशल मीडिया के एक्टिव यूजर्स की संख्या मिलियन में है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here