ठगी से बचने के लिए ना ATM कार्ड बनवाया और ना ही इंटरनेट बैंकिंग, फिर भी खाते से निकले 44 लाख, जानकर उड़े होश

नोएडा में रहने वाली रिटायर्ड कर्नल की पत्नी के साथ हुई ठगी। अखबार में साइबर ठगी की खबर पढ़कर सोचा कि अपना खाता भी बैंक में चेक करा लूं। यही सोचकर बैंक पहुंची तो पता चला कि ऑनलाइन बैंकिंग एक्टिवेट कराकर किसी ने निकाल लिए हैं 44 लाख रुपये।

Cyber Crime News : दिल्ली से सटे नोएडा में रहने वाली रिटायर्ड कर्नल की पत्नी के पेंशन अकाउंट से 44 लाख रुपये निकाले जाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। पिछले 30 साल से बुजुर्ग महिला ने जालसाजों से बचने के लिए ही ना ही डेबिट कार्ड बनवाया था और ना ही ऑनलाइन बैंकिंग शुरू कराई थी। वो हमेशा चेक से ही पैसे निकालती थीं। पिछले दिनों न्यूजपेपर में अकाउंट से बिना ओटीपी से पैसे निकाले जाने की खबर पढ़ीं तो सोचा कि बैंक जाकर पासबुक अपडेट करा लूं। बैंक में जब उन्होंने पासबुक अपडेट कराई तो पता चला कि उनके अकाउंट से ऑनलाइन बैंकिंग के जरिए 44 लाख रुपये अलग-अलग कई खातों में ट्रांसफर कर दिए गए हैं।

अब इस मामले में पीड़ित बुजुर्ग महिला ने नोएडा सेक्टर-20 थाने में बैंक वालों पर मिलीभगत का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज कराई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। ठगी की शिकार हुईं बुजुर्ग महिला 75 वर्षीय मंजू हैं। इनके पति रिटायर्ड कर्नल थे। उनका सेक्टर-2 स्थित एक सरकारी बैंक में 30 साल पुराना अकाउंट है। इन्होंने अकाउंट में जमा लाखों रुपये की एफडी कराई हुई थी। ठगी से बचने के लिए ही इन्होंने कभी डेबिट कार्ड नहीं बनवाया। इसके अलावा कभी उन्होंने ऑनलाइन बैंकिंग भी एक्टिवेट नहीं कराया था।

बैंक में FD किए पैसे को कराया ट्रांसफर

बुजुर्ग महिला मंजू ने बताया कि पिछले दिनों अखबार में पढ़ा था कि साइबर क्रिमिनल नए-नए तरीके से ठगी कर रहे हैं। जिसमें एक व्यक्ति के खाते से लाखों रुपये निकाल लिए गए और मैसेज भी नहीं मिला। इसी डर से वो भी बैंक पहुंची थीं। पासबुक एंट्री से पता चला कि बैंक खाते से रजिस्टर्ड नंबर की जगह किसी व्यक्ति ने अपना नंबर अपडेट करा लिया। इसके बाद उसी नंबर से ऑनलाइन बैंकिंग एक्टिवेट करा लिया और एफडी खाते से 44 लाख रुपये निकाल लिए। इन पैसों से कई नामी जूलरी शॉप से 10 लाख रुपये की शॉपिंग भी की है।

बेटा बनकर एक्टिवेट कराया था ऑनलाइन बैंकिंग

इस मामले में पुलिस ने बैंक अधिकारियों से बातचीत के आधार पर दावा किया है कि किसी व्यक्ति ने खुद को बुजुर्ग महिला का बेटा बताकर ये फर्जीवाड़ा किया है। उस शख्स ने पहले अपना फोन नंबर एक्टिवेट कराया। इसके बाद इंटरनेट बैंकिंग सेवा शुरू कराई थी। इसके लिए उसने महिला का फोटो लगाकर फॉर्म भी भरा था। बताया जा रहा है कि उस व्यक्ति ने बैंक अधिकारियों को यह भी बताया था कि उसकी मां बीमार है। वह बैंक नहीं आ सकती हैं इसलिए ऑनलाइन बैंकिंग एक्टिवेट कराया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here