क्या है Whatsapp की नई पॉलिसी? प्राइवेसी को लेकर चिंता बढ़ी, जानें इसके बारे में सबकुछ

whatsapp crime

नई दिल्ली : इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप वॉट्सऐप (Whatsapp) अपने नई प्राइवेसी पॉलिसी (Whatsapp New Privacy Policy in hindi) के कारण चर्चा में है। इस नई प्राइवेसी पॉलिसी के अनुसार यूजर्स को लेटेस्ट टर्म एंड कंडीशंस पर सहमति जतानी होगी। ऐसा नहीं करने पर अकाउंट डिलीट हो जाएगा। इस नई पॉलिसी में यह बताया गया है कि वॉट्सऐप फेसबुक और इंस्टाग्राम के साथ कैसे काम करता है और कंपनी में इंटीग्रेशन का ऑफर देता है। यानी अब वॉट्सऐप के डेटा फेसबुक और इंस्टाग्राम में भी इस्तेमाल हो सकेंगे। यही वजह है कि लोगों को अपनी प्राइवेसी को लेकर चिंता सताने लगी है। आइए डिटेल में जानते हैं वॉट्सऐप की नई पॉलिसी के बारे में-

वॉट्सऐप ने यूजर्स को नई पॉलिसी को एक्सेप्ट करने के लिए 8 फरवरी 2021 तक का समय दिया है। यूजर्स के पास इसे एक्सेप्टकरने के अलावा कोई दूसरा चारा नहीं है, क्योंकि ऐसा नहीं करने पर अकाउंट डिलीट हो जाएगा। यूजर्स को इस बात का ध्यान रखना होगा कि वॉट्सऐप पर अपलोड किया जाने वाला कोई भी फोटो या डेटा अब इंटरनेट पर इस्तेमाल हो सकता है। वॉट्सऐप ने निर्देश दिया है कि यूजर्स प्राइवेसी पॉलिसी को अच्छे से पढ़ लें, ताकि उन्हें इसके बारे में पता चल सके कि उनकी जानकारी कैसे प्रोसेस होती है।

क्या ध्यान में रखने की आवश्यकता है?

इस पॉलिसी को स्वीकार करने की आवश्यकता क्यों है?

व्हाट्सऐप द्वारा अपनी सर्विस और प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर को लेकर शर्तों अपडेट करना कोई नई बात नहीं है। अधिकांश सॉफ्टवेयर सर्विसेज कभी-कभी ऐसा करती हैं। यह काफी आम बात है। इन सेवाओं का उपयोग जारी रखने के लिए, यूजर्स को नई शर्तों और नीति को स्वीकार करना ही पड़ता है।

ये भी पढ़ें : TrueCaller की प्राइवेसी पॉलिसी का खतरनाक राज, जानिए कैसे आपके फोन डेटा को दुनिया भर में बेचा जा रहा है

पॉलिसी में क्या बदलाव हुए हैं?

पहले की पॉलिसी के अनुसार व्हाट्सऐप एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड रहता था। इसका अर्थ है कि कोई भी आपके संदेशों को नहीं देख सकता है, या इसे किसी के साथ साझा नहीं कर सकता है। लेकिन नई पॉलिसी आने के बाद ऐसा नहीं होगा। अब आपके डेटा पर कंपनी की पूरी नजर होगी। व्हाट्सऐप के अनुसार वह रोबोटिक तकनीक के माध्यम से यूटीलाइजेशन और लॉग-इन इन्फर्मेशन इकट्ठा करेगा। इसके अलावा वह वॉट्सऐप ग्रुप इंफॉर्मेशन और प्रोफाइल फोटोग्राफ भी जमा करेगा। यूजर्स को ट्रांजेक्शन डेटा शेयर करने के लिए सहमति देनी होगी। किसी ई-कॉमर्स साइट के प्रोडक्ट को स्टेटस पर शेयर करने पर फेसबुक-इंस्टाग्राम भी इससे जुड़े एड आपको दिखाने लगेंगे। कंपनी को पता होगा कि आप कौन सा कंटेंट सबसे ज्यादा फॉरवर्ड कर रहे हैं। फेक न्यूज ट्रैक करने में भी यह जानकारी काम आएगी।

कितनी सुरक्षित है नई पॉलिसी


यह पूरी तरह से यूजर्स पर निर्भर है कि वो इस नई प्राइवेसी पॉलिसी को एक्सेप्ट करता है या नहीं। ऐसा नहीं करने पर अकाउंट बंद हो जाएगा। यूजर्स अगर इसे एक्सेप्ट करता है तो उसे वॉट्सऐप पर कुछ भी शेयर करने से पहले सेफ्टी सिक्योरिटी का पूरा ध्यान रखना होगा। कुछ ऐसा शेयर न करें जिसके लीक होने से आपको परेशानी हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here