WhatsApp vs Signal vs Telegram : प्राइवेसी और फीचर में बेहतर कौन, ऐसे समझिए

Whatsapp -Telegram-Signal में कौन बेहतर। किसमें ज्यादा प्राइवेसी। कौन ज्यादा यूजर फ्रेंडली। ऐसे तमाम सवाल आपके मन में आ रहे हैं। ऐसे में हम आपको आसान भाषा में तीनों Messaging Apps के फीचर्स और प्राइवेसी के बारे में बताएंगे। जिसके बाद आप खुद तय कर लेंगे कि कौन सा आपके लिए बेहतर है।

whatsapp signal telegram comparison
whatsapp signal telegram comparison

WhatsApp vs Telegram vs Signal in Hindi : कौन सा मैसेजिंग ऐप (Messaging Apps) सबसे बेहतर है। हिंदी में समझना है तो यहां पढ़िए। लेकिन सबसे पहले जानते हैं कि दुनिया में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाले WhatsApp की नई प्राइवेसी पॉलिसी से आखिर हमें दिक्कत क्या होगी? आखिर ऐसी कौन सी वजह है जिससे हमें नुकसान हो सकता है। इस खबर को पढ़कर आप सबुकछ समझ जाएंगे। ये भी जानेंगे कि किस ऐप में क्या खासियत है और क्या खामियांय़

WhatsApp New Terms and Privacy Policy Update

वॉट्सऐप ने अपनी नई पॉलिसी का नोटिफिकेशन भेजना शुरू कर दिया है। आपको भी ये नोटिफिकेशन मिला होगा। अगर आपको इस ऐप का इस्तेमाल करना है तो इस पॉलिसी को अग्री (Agree) करना जरूरी होगा। ऐसा नहीं करने पर 8 फरवरी के बाद आपका वॉट्सऐप अकाउंट डिलीट हो जाएगा।

क्या है : Whatsapp New Policy?

आखिर वॉट्सऐप की नई पॉलिसी में ऐसा क्या है। इसे ऐसे समझिए। आप वॉट्सऐप पर जो मैसेज या कोई कंटेंट सेंड करते हैं। या रिसीव करते हैं। या फिर कोई फोटो या वीडियो अपलोड या भेजते हैं तो अभी तक वो सिर्फ आप और जिससे आपकी चैट होती थी, उन्हीं दोनों के बीच सीक्रेट रहती थी। यानी end to end Encrypted रहती थी। लेकिन नई पॉलिसी से सहमत होने पर कंपनी उन्हीं डेटा यानी फोटो, वीडियो, कंटेंट को कहीं भी यूज, रिप्रोड्यूस, डिस्ट्रीब्यूट और डिस्प्ले भी कर सकती है। इस तरह आपकी प्राइवेसी खत्म हो जाएगी।

ऐसे समझें : वॉट्सऐप को कैसे होगा फायदा?

उदाहरण के लिए मान लीजिए कि वॉट्सऐप पर आपने किसी दोस्त से ऑनलाइन फोन खरीदने के लिए जानकारी मांगी। और आपका दोस्त Amazon पर आए किसी ऑफर का लिंक Whatsapp पर भेजता है। अब ये जानकारी आपको तो मिलेगी ही साथ ही ये व़ॉट्सऐप से जुड़े फेसबुक और इंस्टाग्राम को भी मिल जाएगी। जिसके बाद आपको फेसबुक और इंस्टाग्राम पर ऑनलाइन फोन के विज्ञापन देखने को मिलेंगे। इसी तरह आपके बीच हुई पर्सनल चैट की जानकारी भी इन दूसरी कंपनियों के पास होगी। जिससे वो अपने बिजनेस में मदद लेंगे। आपकी चैट डिटेल के साथ नई पॉलिसी पर सहमति देने की वजह से कंपनी आपके खर्च, आईपी एड्रेस, लोकेशन, स्टेटस, कंटेंट, कॉल जैसे सभी डेटा को एक्सेस कर सकेगी।

जानिए खासियत : WhatsApp vs Telegram vs Signal

courtesy : Times Of India

वॉटसऐप फीचर Whatsapp Features

Whatsapp इसलिए लोकप्रिय है क्योंकि इसमें वे सभी फीचर्स हैं जो एक यूजर्स को चाहिए। ग्रुप चैट में आप एक साथ 256 लोगों तक अपनी बात पहुंचा सकते हैं। ग्रुप चैट (group chats) में आप मैसेज के साथ वीडियो और ऑडियो कॉल (voice and video calls) भी कर सकते हैं। लेकिन इसमें एक कमी है कि ग्रुप वीडियो कॉल में सिर्फ 8 लोगों को ही शामिल कर सकते हैं। यानी 8 से ज्यादा लोगों के साथ वीडियो कॉल नहीं कर सकते हैं। फेसबुक और इंस्टाग्राम की तरह वॉट्सऐप में स्टेटस फीचर (Status feature) है। Whatsapp से हम कोई फाइल, डॉक्युमेंट भी भेज लेते हैं। इसमें फोटो, वीडियो और ऑडियो फाइल के लिए लिमिट 16 एमबी तक ही है जबकि डॉक्यूमेंट्स के मामले में यह लिमिट 100 एमबी तक हो सकती है। इसके जरिए हम लाइव लोकेशन (share live location) भी शेयर कर सकते हैं। इसमें बैकअप की सुविधा भी है। यानी अगर आप वॉट्सऐप को किसी दूसरे डिवाइस में शुरू करते हैं तो आपको पुरानी चैट भी मिल जाती है।

टेलीग्राम ऐप (Telegram App feature)

अगर आप Whatsapp यूज करते हैं तो टेलीग्राम Telegram के फीचर्स भी काफी पसंद आएंगे। बल्कि वॉट्सऐप से कई फीचर्स टेलीग्राम में ज्यादा अच्छे हैं। Whatsapp  की तरह Telegram में आप पर्सनल चैटिंग, ग्रुप चैट, कॉल, वीडियो कॉल भी कर सकते हैं। इसके अलावा टेलीग्राम पर ग्रुप में 2 लाख लोगों को शामिल कर सकते हैं। जबकि Whatsapp  में महज 256 लोगों को ही जोड़ सकते हैं।

प्राइवेसी और खासियत  : टेलीग्राम में आपको प्राइवेसी के दो ऑप्शन हैं। इसमें आप चाहें तो सीक्रेट चैट (Secret Chat) कर सकते हैं। ये चैट पूरी तरह से सीक्रेट यानी End-to-End Encrypted होगी। इसे कोई थर्ड पार्टी नहीं देख सकता है। इसमें एक और खासियत है कि आप टाइमर सेट कर दें तो ये चैटिंग अपने आप डिलीट हो जाएगी। यानी गायब हो जाएगी। जिसे हम self-destructing messages की सुविधा कहते हैं। ये सुविधा स्नैपचैट (Snapchat) पर है। Whatsapp की तुलना में टेलीग्राम पर फाइलों को शेयर करने की लिमिट 1.5 GB है। इसकी सबसे बड़ी खासियत ये है कि इसे आप बिना डाउनलोड किए ही फारवर्ड भी कर सकते हैं। जबकि वॉटसऐप में ऐसा नहीं होता है। वॉट्सऐप में किसी डॉक्युमेंट या वीडियो या फोटो को फारवर्ड करने के लिए पहले डाउनलोड करना जरूरी होता है। टेलीग्राम भी अब एंड्रॉइड (Android) और आईओएस डिवाइस (iOS devices) समेत सभी प्लैटफॉर्म पर है। हालांकि, आने वाले समय में टेलीग्राम पर भी विज्ञापन के लिए प्राइवेसी में बदलाव आ सकता है। ऐसा होने पर टेलीग्राम में कई तरह के ऑप्शन मिलेंगे। जैसे प्रीमियर टेलीग्राम में कुछ पैसे देकर आप अपनी प्राइवेसी बरकरार रख सकते हैं। जबकि नॉर्मल में विज्ञापन आ सकता है।

सिग्नल मैसेंजर ऐप (Signal App feature)

Whatsapp की प्राइवेसी मामला आने के बाद सबसे ज्यादा चर्चा में कोई मैसेजिंग ऐप आया है तो वो है सिग्नल। इसे अमेरिकन क्रिप्टोग्राफर मोक्सी मार्लिनस्पाइक (Moxie Marlinspike) ने बनाया है। सिग्नल कंपनी के ये  सीईओ  भी  हैं। इस कंपनी का कोई थर्ड पार्टी बैकअप नहीं है। ये अभी नॉन प्रॉफिट ऑर्गेनाइजेशन (Non-Profit) है। इसलिए इसका डेटा किसी थर्ड पार्टी को देने की जरूरत नहीं है। लिहाजा, इस ऐप पर आपकी चैट और सभी कम्यूनिकेशंस पूरी तरह से सीक्रेट हैं। यानी एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड (end-to-end encrypted) हैं।  

प्राइवेसी और खासियत : सिग्नल ऐप अपने यूजर्स को सिक्योर मैसेज, वॉयस कॉल और वीडियो कॉल जैसे फीचर्स देता है। वॉट्सऐप और टेलीग्राम की तरह इस पर भी आप ग्रुप बना सकते हैं। इसमें अधिकतम 150 लोगों का ग्रुप बना सकते हैं। हालांकि, यहां आप एक साथ कई लोगों को अपना मैसेज नहीं भेज सकते हैं। सिग्नल ऐप ने हाल ही में ग्रुप वीडियो कॉलिंग (group Video calling) की सर्विस भी शुरू की है। ये कॉल भी end-to-end encrypted है। यानी सीक्रेट होगी। टेलीग्राम (Telegram) की तरह यह ऐप भी आपको चैटिंग खुद ही डिलीट होने की सुविधा देता है। इसके लिए आप चाहे तो सभी चैट के लिए Disappearing messages को ऑन करना होगा। आप चाहें तो किसी मैसेज को डिलीट करने के लिए 5 सेकेंड से लेकर 1 हफ्ते तक का टाइम सेट कर सकते हैं। ये एंड्रवॉयड, आईओएस समेत सभी प्लैटफॉर्म पर उपलब्ध भी है। इसके अलावा इसमें एक और खास फीचर Incognito Keyboard का है। यानी आप चाहें तो इस कीबोर्ड को ऑन कर कुछ टाइप करें तो वो सेव नहीं होगा। इसके अलावा आप इसमें स्क्रीन लॉक (Screen Lock) भी कर सकते हैं। आप सिग्नल अकाउंट को लॉक करने के लिए PIN भी सेट कर सकते हैं। इसमें आप चाहें तो किसी के मैसेज या कॉल को ब्लॉक भी कर सकते हैं। आपके पास ये भी ऑप्शन है कि कोई आपसे हुई चैट का स्क्रीन शॉट नहीं ले सकेगा। जिससे आपकी चैट का कोई प्रूफ नहीं मिल सकेगा। चूंकि सिग्नल पूरी तरह से फ्री है और Non-Profit है तो भविष्य में भी इसकी प्राइवेसी में कोई बदलाव आने की उम्मीद नहीं है। जैसा की आने वाले समय में टेलीग्राम में भी होने की संभावना बनी है। इसका एक और खास फीचर है। वो है नोट टू सेल्फ (Note to Self)। यानी आप खुद को भी मैसेज भेज सकते हैं। इसके लिए आपको अपना अकेले का ग्रुप बनाना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here