Friday, August 19, 2022
Homeक्राइमसिर्फ 6 सेकेंड में हैक हो सकते हैं Debit या Credit Card,...

सिर्फ 6 सेकेंड में हैक हो सकते हैं Debit या Credit Card, जानिए इन्हें कैसे करें सुरक्षित

ऐसे समय में जब दुनिया महामारी के दौरान ज्यादातर कामों के लिए इंटरनेट पर निर्भर है, साइबर सुरक्षा अत्यंत महत्वपूर्ण हो जाती है। वित्तीय लेनदेन हमेशा हैकर्स के निशाने पर होता है। नॉर्ड वीपीएन (NordVPN) द्वारा जारी एक रिपोर्ट से पता चला है कि कंप्यूटर का उपयोग करके किसी भी पेमेंट कार्ड केवल छह सेकंड में हैक किया जा सकता है।

दुनिया भर में लाखों इंटरनेट यूजर्स द्वारा उपयोग किए जाने वाले ग्लोबल वीपीएन प्रोवाइडर ने 140 देशों के 40 लाख पेमेंट कार्ड का विश्लेषण किया और इनको हैक करने के लिए ‘ब्रूट फोर्स’ को सबसे आम तरीका पाया है।

इस प्रकार का अटैक काफी तेज होता है और इसे कुछ ही सेकंड में अंजाम दिया जा सकता है। नॉर्डवीपीएन के मुख्य प्रौद्योगिकी अधिकारी मारिजस ब्रीडिस ने कहा, “डार्क वेब (dark Web) पर इतनी बड़ी संख्या में पेमेंट कार्ड दिखाई देने का एकमात्र तरीका ‘ब्रूट फोर्स’ है। इसका मतलब है कि अपराधी कार्ड नंबर और सीवीवी का अनुमान लगाने की कोशिश करते हैं।”

ब्रीडिस ने कहा कि पहले 6-8 अंक कार्ड यूजर की आईडी नंबर होती है।इससे हैकर्स को अनुमान लगाने के लिए 7-9 नंबर मिलते हैं क्योंकि 16 वें अंक का उपयोग केवल यह निर्धारित करने के लिए किया जाता है कि नंबर इंटर करते समय कोई गलती हुई थी या नहीं। कंप्यूटर का उपयोग करते हुए, इस तरह के अटैक को केवल छह सेकंड में अंजाम दिया जा सकता है।

ब्रीडिस ने कहा कि एक पूरी कार्ड संख्या के लिए आवश्यक नौ अंकों का अनुमान लगाने के लिए एक कंप्यूटर को एक अरब संयोजनों से गुजरना पड़ता है। इसके लिए एक सामान्य कंप्यूटर को केवल एक मिनट का समय लगेगा, जो प्रति घंटे लगभग 25 अरब संयोजनों को आजमा सकता है। एक अपराधी को इसका सही अनुमान लगाने के लिए केवल सात अंकों की आवश्यकता हो सकती है। इस मामले में छह सेकंड पर्याप्त होंगे। हालांकि, यह कार्ड जारी करने वाले पर निर्भर करता है।

डेबिट, क्रेडिट कार्ड उपयोगकर्ता क्या कर सकते हैं

ब्रीडिस ने कहा कि कार्ड यूजर्स को संदिग्ध गतिविधि के लिए अपने मंथली स्टेटमेंट की समीक्षा करने और बैंक से प्रत्येक सुरक्षा अधिसूचना पर तुरंत और गंभीरता से प्रतिक्रिया देने की आवश्यकता है। अलग-अलग काम के लिए अलग-अलग बैंक अकाउंट रखना चाहिए। पेमेंट कार्ड वाले अकाउंट में जरूरत के हिसाब से पैसा रखें। कुछ बैंक कुछ समय के लिए वर्चुअल कार्ड भी प्रदान करते हैं, जिनका आप उपयोग कर सकते हैं यदि आप ऑनलाइन खरीदारी करते समय सुरक्षित महसूस नहीं करते हैं।

पिछले साल सितंबर में, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने भी धोखाधड़ी गतिविधि में वृद्धि के खिलाफ लोगों को चेतावनी दी थी। केंद्रीय बैंक ने 13 सितंबर को एक ट्वीट के जरिए लोगों को अपने केवाईसी(Know Your Coustmer)से संबंधित बैंक धोखाधड़ी के प्रति आगाह किया था। शीर्ष बैंक ने अपने ट्वीट और प्रेस विज्ञप्ति में लोगों को अपने व्यक्तिगत खाते से संबंधित जानकारी को स्कैमर्स के साथ साझा करने के खिलाफ चेतावनी दी। केंद्रीय बैंक ने यह भी कहा कि लोगों को कुछ व्यक्तिगत विवरण जैसे लॉगिन जानकारी, कार्ड विवरण, पिन नंबर या यहां तक ​​कि वन-टाइम पासवर्ड साझा नहीं करना चाहिए।

Follow The420.in on

 Telegram | Facebook | Twitter | LinkedIn | Instagram | YouTube

Subscribe to our newsletter

To be updated with all the latest news, offers and special announcements.

Most Popular

Recent Comments